Home नजरिया

नजरिया

क्या जीवन को परभाषित किया जा सकता है। कि वास्तव में यह क्या है। या फिर जैसी की मान्यता है। कि परमात्मा द्वारा प्रहत यह एक विशेष उपहार है। जो कि हमें कई योनियों में रहने के पश्चात व...
जैसा कि हम सभी लोगो ने बचपन में कछुए और खरगोश की कहानी पढी और सुनी अवश्य ही होगी लेकिन इस कहानी ने समय के साथ एक नया रूप ले लिया है   कछुए ने स्वीकार की चुनौती खरगोश जिसको अपनी तेज...

FOLLOW US

20,718FansLike
2,369FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -

RECENT POSTS